Top 3 Civil engineering company in India | बेस्ट सिविल इंजीनियरिंग कंपनी इन इंडिया

Top 3 Civil engineering company in India

हेलो फ्रेंड्स वेलकम टू हिंदी सिविल

आज हम बात करने वाले सिविल इंजीनियर के Top  3 कंपनी कोन सी है।  इन कंपनी का स्टेटमेंट कब हुआ था और इनके फाउंडर कौन थे और दूसरी बात करने के मेगा प्रोजेक्ट के बारे में क्या क्या इन्होंने कंस्ट्रक्शन किया हुआ है क्या क्या इन्होंने स्ट्रक्चर्स बनाए हुए हैं

1. Larsen  and Toubro

larsen and tubro

तो दोस्तों सबसे नंबर वन पर जो कंपनी है वो  Larsen  and Toubro (l&t) हैं।

हम सब जानते हैं उसका इस्टैब्लिशमेंट 1938 में मुंबई में हुआ था इसका इस्टैब्लिशमेंट दो डेनिस इंजीनियर ने किया था जिनका नाम था हेन्निंग होलक लार्सन और सोरेन क्रिश्चियन  टूब्रो.

हेन्निंग होलक लार्सन इनका जन्म डेनमार्क में  मार्च में हुआ था 1907 में और इन्होंने अपनी जो पढ़ाई है केमिकल इंजीनियरिंग से स्टार्ट किया था और यह मुंबई आए थे और 1937 में और इनको अपॉर्चुनिटी दिखी यहां कंस्ट्रक्शन का काम स्टार्ट करने का।  और इन दोनों ने मिलकर 1938 में लार्सन एंड टर्बो कंपनी को स्टार्ट किया

सोरेन क्रिश्चियन  टूब्रो का जन्म 1906 में डेनमार्क में हुआ था। सोरेन क्रिश्चियन  टूब्रो ने भी वही कॉलेज से पढ़ाई की थी जिस कॉलेज में होलक लार्सनपड़े थे.. इन्होने सिविल इंजीनियरिंग से अपना करियर स्टार्ट  किया था। और इन दोनों ने मिलकर 1938 में लार्सन एंड टर्बो कंपनी को स्टार्ट किया।

आपको इनको जो पहला ऑफिस था उसमें इतनी कम जगह रहती थी कि उसमें खाली एक ही आदमी एक समय बैठ सकता था इतने छोटी जगह पर उन्हें स्टार्ट किया था लेकिन आप देख सकते हैं इनका हौसला इतना बुलंद था कि उन्होंने अपने जो कंपनी है कितने ऊपर लेवल तक पहुंचाई है

कंपनी में  नंबर आफ एम्पलाइज के  बात करें तो एक्टिव 84027  के आंकड़ा है 2014 के हिसाब से। कंपनी के फोकस एंड डिवीज़न की बात करे तो कंपनी real estate, technology, construction, एंड मनुफेक्टर पैर काम करती है.

Mega  Projects :

लोटस टेंपल जो न्यू दिल्ली में है उसमें भी l&t ने काम किया हुआ है हालांकि इसमें जो आर्किटेक्ट थे वह फराह  बोर्ड साहिबा यूके फ्रॉम बेस्ट कंपनी से थे और उसके जो structure इंजीनियर थी उसका नाम था फ्रिंट निल है.

और दोस्तों के और स्ट्रक्चर्स कि हम बात करें तो एटीसी टावर मुंबई जो एयरपोर्ट एटीसी टावर बना हुआ है उसमें एलएनटी ने  काम किया हुआ है आईसीआईसीआई बैंक बिल्डिंग जो है उसमें भी l&t ने काम किया है

और जो यहां तक कि वानखेड़े स्टेडियम मुंबई का है उसमें भी l&t ने काम कंस्ट्रक्शन किया है।

2. Delhi Land & Finance :

delhi land and finance

Delhi land & finance इस कंपनी का establishment  1946 में delhi में हुआ था.  इसके जो फाउंडर थे वह तो चौधरी लागे में राघवेंद्र सिंह जी उनको चौधरी साहब भी कहा जाता था और एक अच्छी फैमिली से बिलॉन्ग करते थे और उनके फादर एक ग्रेट परिवर्तन का नाम तो चौधरी लालचंद।

और इन्होंने अपनी 22 साल की उम्र में Law qualify  कर लिया था।  इन्होंने अपने ग्रेजुएशन सेंट स्टीफन कॉलेज दिल्ली से कंप्लीट की थी. और उन्होंने 1935 में पंजाब सिविल सर्विस को ज्वाइन किया था। 1940 में इन्होंने आर्मी ज्वाइन की थी और उसमें इंडियन ऑफिसर को डेकोरेट करने का भी काम किया था।

 और WAR  फील्ड में भी यह गए थे।  और जो इंडियन आर्मी इंडियन आर्मी ऑफिसर से उनको इंस्पायर किया था।

और 200 पार्टीशन के बाद के क्रम बात करें तो उन्होंने पार्टीशन के बाद एक चैनल दिया था कि हम होम्स क्रिएट करेंगे जो जरूरतमंद लोगों उनके लिए बनाएंगे तो इन्होंने कॉलोनी डेवलप की थी साउथ दिल्ली में तो यहां से उन्होंने अपना कंस्ट्रक्शन का काम जो है वह बिजनेस स्टार्ट किया था।

और दोस्तों इस  समय जो चेयरमैन है डीएलएफ के खुशपाल सिंह जी हैं और जो नंबर आफ एम्पलाइज है 11495 एम्पलॉयस इस  समय है प्रोडक्ट पर बात करें तो यह Apartment  करते हैं Mall  हाउस बनाते हैं  होटल्स गोल्फ कोर्स काफी कुछ उनका कंस्ट्रक्शन का वर्क है डिवीजन से बात है तो रियल स्टेट है और कंस्ट्रक्शन  है।

 Mega Projects :

तो सुपर मेगा प्रोजेक्ट में बात करें तो शिवाजी पार्क जो डेल्ही में है वह उनकी फर्स्ट डेवलपमेंट थी।  और उसके बाद जो राजौरी गार्डन मार्केट है दिल्ली में उसको भी इन्होंने बनाया था। और जो हमारा प्रोजेक्ट है हौज खास से दिल्ली में कॉलोनी से उसको भी डेवलपमेंट है वह DLF ने  हीं किया था और जो  डीएलएफ मॉल नोएडा में जो एशिया का है इंडिया के लार्जेस्ट मॉल  है उसको भी डीएलएफ ने ही बनाया था

3. TATA Projects:

tata projects

थर्ड कंपनी आती है वह टाटाप्रोजेक्ट्स टाटा हाउसिंग डेवलपमेंट विश्व कहा जाता है एस्टब्लिश  की गई थी 1984 में मुंबई में एस्टब्लिश किया गया था। उसकी जो फाउंडर थे जहांगीर रतनजी दादाभाई टाटा इनका पूरा नाम था। और उनका जन्म हुआ था 1904 में पेरिस में जन्म हुआ था।

यह फ्रेंच इंडियन थे और एक पारसी फैमिली से बिलॉन्ग करते हैं और फर्स्ट एयरलाइन से टाटा एयरलाइंस उसके फाउंडर भी ऐ ही  थे।   टाटा एयरलाइंस  बाद में जाकर एयर इंडिया इसको खा गया था। एयर इंडिया इस  समय नेशनल एयरलाइंस इंडिया  है।

टाटाप्रोजेक्ट्स का हेडक्वार्टर  मुंबई में  है।

Also read: