फ्रेम्ड स्ट्रक्चर और लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर के बीच का फर्क

इस आर्टिकल में हमने load bearing structure और framed structure के बीच का difference बताया है। कौन से टाइप का स्ट्रक्चर ज्यादा मजबूत होता है और कौन सा कमजोर होता है उसके बारे में बताया है। और भी बहुत कुछ तो पूरा आर्टिकल अंत तक पड़े।

लोड बेअरिंग स्ट्रक्चरफ्रेम्ड स्ट्रक्चर
1. लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर में बिल्डिंग पर आ रहा सभी प्रकार के लोड बिल्डिंग्स की दीवालो के द्वारा फाउंडेशन और फाउंडेशन से जमीन पर ट्रांसफर होता है। 1. फ्रेम्ड स्ट्रक्चर में बिल्डिंग पर आ रहा सभी प्रकार के लोड बीम्स से कॉलम, कॉलम से फाउंडेशन और फाउंडेशन से जमीन पर ट्रांसफर होता है।
2. लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर में सभी प्रकार के लोड के दीवाल से ट्रांसफर होने के कारन दीवालो की thickness (चौड़ाई ) ज्यादा होती है। 2. फ्रेम्ड स्ट्रक्चर में दिवालो के द्वारा कोई भी प्रकार के लोड ट्रांसफर नहीं होते है। जिससे दीवाल की चौड़ाई कम होती है। दीवाल सिर्फ बीम – कॉलम के बीच की जगह को भरने के लिए उपयोग की जाती है।
3. लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर में दीवाल की चौड़ाई कम से कम 300mm होती है। 3. फ्रेम्ड स्ट्रक्चर में दीवालो द्वारा लोड ट्रांसफर न होने के कारन दीवालो की चौड़ाई कम से कम 100mm तक रख सकते है।
4. लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर में दीवाल की चौड़ाई ज्यादा होने से फ्लोर एरिया अथवा तो कारपेट एरिया कम मिलता है। 4. दीवाल की चौड़ाई कम होने के कारण कारपेट एरिया ज्यादा मिलता है
5. लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर में शैलो फाउंडेशन का उपयोग होता है। 5. फ्रेम्ड स्ट्रक्चर में ज्यादातर कॉलम फुटिंग अथवा तो deep foundation का उपयोग होता है।
6. लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर को कंस्ट्रक्ट करने में ज्यादा समय लगता है क्युकी जबतक निचे के फ्लोर की दीवाल मजबूत न हो जाये तबतक ऊपर के फ्लोर का कंस्ट्रक्शन नहीं हो सकता है। 6. फ्रेम्ड स्ट्रक्चर को कंस्ट्रक्ट करने में कम समय लगता है। क्युकी एक बर बीम कॉलम की फ्रेम्ड कंस्ट्रक्ट हो जाने के बाद विभिन्न फ्लोर पर एकसाथ कंस्ट्रक्शन काम कर सकते है।
7. 4 फ्लोर से ज्यादा के ऊंचाई के लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर को कंस्ट्रक्ट करना मुश्किल होता है। क्युकी स्ट्रक्चर की ऊंचाई बढ़ने से उसपर लोड बढ़ता है जिससे दीवालो की चौड़ाई बढ़ती है। 7. High-rise building कंस्ट्रक्शन ज्यादातर Framed structure होते है।
8. Soft Soil Ground पर लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर को कंस्ट्रक्ट करना मुश्किल होता है। 8. Soft Soil Ground पर Framed structure को कंस्ट्रक्ट करना economical और अनुकूल होता है।
9. लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर भूकंप के सामने कमजोर होते है। 9. फ्रेम्ड स्ट्रक्चर भूकंप के सामने मजबूत होते है।

बिल्डिंग फाउंडेशन के बारे में इंग्लिश में जाने : Types of Building Foundation